कोटपूतली : दो धड़ों में बंटा शहर, जिम्मेदार कौन ?

कोटपूतली : दो धड़ों में बंटा शहर, जिम्मेदार कौन ?

न्यूज़ चक्र, कोटपूतली। शहरी क्षेत्र में मास्टर प्लान लागू किए जाने के तहत नगर पालिका ने प्रस्तावित 80 फीट व 60 फीट सड़क पर बाधा बन रहे प्रतिष्ठानों को ध्वस्त करने की पूरी तैयारी कर ली है। इस बीच प्रतिष्ठानों को ध्वस्त किए जाने से आशंकित दुकानदारों ने नगरपालिका के विरोध स्वरूप अग्रसेन तिराहे पर टेंट गाड़ दिया है और धरना शुरू कर दिया है।

व्यापारियों ने की आमसभा, कहा – कार्यवाही नहीं होने देंगे

कोटपूतली व्यापार महासंघ ने आज नगर पालिका के प्रस्तावित कार्यवाही के विरोध में बाजार बंद करवाया और अग्रसेन तिराहे पर आम सभा आयोजित कर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान सभा में पहुंचे भाजपा नेता मुकेश गोयल, पूर्व संसदीय सचिव रामस्वरूप कसाना, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश सैनी सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने भी व्यापार मंडल व व्यापारियों का समर्थन किया। व्यापारियों का कहना है कि अगर नगर पालिका ने सड़कों की चौड़ाई बढ़ाने के दौरान व्यापारिक प्रतिष्ठानों को ध्वस्त किया तो शहर में व्यापारिक वजूद खत्म हो जाएगा।

देर शाम व्यापारियों ने दुकानों से सामान हटाना किया शुरू

अग्रसेन चौक पर आम सभा व इसके बाद जारी धरने के बावजूद दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठानों से सामान हटाना शुरू कर दिया है। सूत्रों के मानें तो कई दुकानदारों ने नगर पालिका को अपने प्रतिष्ठान तोड़ने की स्वीकृति भी दे दी है।

ज्योतिबा फुले चौक पर आतिशबाजी

कोटपूतली में प्रस्तावित मास्टर प्लान को लेकर एक तरफ व्यापार मंडल विरोध दर्ज करा रहा है और अग्रसेन तिराहे पर धरने पर बैठा है तो वहीं दूसरी तरफ महात्मा ज्योतिबा फुले चौक पर थड़ी, ठेला व्यापारियों ने नगर पालिका के पक्ष में खुशी जाहिर करते हुए आतिशबाजी की। यह आतिशबाजी अब शहर भर में चर्चा का विषय बनी हुई है। लोग पूछ रहे हैं की है यह आतिशबाजी वर्ग संघर्ष है या खुशी !!

इस खबर को लेकर आप क्या विचार रखते हैं नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

कोटपूतली जयपुर समाचार राजस्थान समाचार